उर्दू जियो वर्झ़न

English اردو

हमारे बारे में

उर्दू जियो क्या है?

उर्दू जियो किताब-ए-मुक़द्दस का नया उर्दू तर्जुमा है। इस में इन्सान के साथ अल्लाह की मुहब्बत और उस के लिए उस की मर्ज़ी और मन्शा का इज़हार है।

© 2010 Geolink Resource Consultants, LLC 10307 W. Broadstreet, #169, Glen Allen, Virginia 23060, United States of America

उर्दू जियो का क्या मक़्सद है?

मक़्सद ये है कि असल मतन का सहीह सहीह तर्जुमा मुहय्या करे, एेसा तर्जुमा जो जदीद क़ारी आसानी से समझ सके। इस तर्जुमे को मुफ़्त में डौनलोड और तक़्सीम करने की इजाज़त है।

किताब-ए-मुक़द्दस क्या है?

हक़ीक़त में किताब-ए-मुक़द्दस एक कुतुब-ख़ाना है जिस की कताबें कई सदियों में तस्नीफ़ हुईं। इन को यूँ तक़्सीम किया जाता है:

तौरेत — तारीख़ी स़हाइफ़ — सहाइफ़-ए हिकमत और ज़बूर — सहाइफ़-ए अन्बिया — इंजील

पहले चार हिस्से पुराना अहदनामा कहलाते हें और इब्रानी और अरामी ज़बान में मर्क़ूम हुए जबकि इंजील को नया अहदनामा भी कहा जाता है। वह यूनानी ज़बान में क़लमबन्द हुई। ज़ेर-ए-नज़र मतन इन ज़बानों का बराह-ए-रास्त तर्जुमा है। मुतर्जिम ने हर मुमकिन कोशिश की है कि असल ज़बानों का सहीह सहीह मफ़्हूम अदा करे।

उर्दू जियो वर्झ़न का किस तरह तर्जुमा हुआ?

पाक कलाम के तमाम मुतर्जिमीन को दो सवालों का सामना है: पहला यह कि असल मतन का सहीह सहीह तर्जुमा किया जाए। दूसरा यह कि जिस ज़बान में तर्जुमा करना मक़्सूद हो उस की ख़ूबसूरती और चाश्नी भी बरक़रार रहे और पाक मतन के साथ वफ़ादारी भी मुतअस्सिर ना हो। चुनाँचे हर मुतर्जिम को फ़ैसला करना होता है कि कहां तक वुह लफ़्ज़-ब-लफ़्ज़ तर्जुमा करे और कहां तक उर्दी ज़बान की सिह्हत, ख़ूबसूरती और चाश्नी को मद्द-ए-नज़र रखते हुए क़दरे आज़ादाना तर्जुमा करे। मुख़्तलिफ़ तर्जुमों में जो बाज़ औक़ात थोड़ा बहत फ़रक़ नज़र आता है उस का यही सबब है कि एक मुतर्जिम असल अल्फ़ाज़ का ज़ियादा पाबन्द रहा है जबकि दूसरे ने मफ़्हूम को अदा करने में उर्दू ज़बान की रिआयत करके क़दरे आज़ाद तरीक़े से मतलब को अदा करने की कोशिश की है।

इस तर्जुमे में जहां तक हो सका असल ज़बान के क़रीब रहने की कोशिश की गई है। याद रहे कि सुर्ख़ियाँ और उन्वानात मतन का हिस्सा नहीं हैं। उन को महज़ क़ारी की सहूलत की ख़ातिर दिया गया है।अल्लाह करे कि यह तर्जुमा भी उस के ज़िन्दा कलाम का मतलब और मक़्सद और उस की वुसअत और गहराई को ज़ियादा सफ़ाई से समझने में मदद का बाइस बने।